महात्मा गांधी की जीवनी | mahatma gandhi biography

मोहनदास करमचंद गांधी : महात्मा गांधी का बचपन का नाम है। उनका जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को पोरबंदर, गुजरात, भारत में हिंदू परिवार में हुआ था। करमचंद गांधी महात्मा गांधी के पिता हैं और उनकी मां का नाम पुतली बाई है।

  • महात्मा गांधी जन्म तिथि – 2 अक्टूबर 1869
  • विवाह – कस्तूरबा गांधी – 1882
  • निधन – 30 जनवरी 1948


इस महात्मा ने अपने दयालु तरीकों और महान कार्यों के माध्यम से भारतीय दिलों को जीता। उन्होंने एक बार प्रसिद्ध कहा था, “पुरुष कहते हैं कि मैं राजनीति में खुद को खोने वाला संत हूं। तथ्य यह है कि मैं एक राजनेता हूं जो संत होने के लिए सबसे कठिन कोशिश कर रहा है। उनके कार्यों ने इन शब्दों की सच्चाई को साबित कर दिया क्योंकि उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता के लिए एक तरह से संघर्ष किया जो आज तक अद्वितीय है।

गांधीजी ने 13 वर्ष की उम्र में कस्तूरबाई के साथ विवाह बंधन में बंधे, जो कि एक ही उम्र के थे। भारत में बाल विवाह तब काफी आम थे। उस समय के दौरान, हिंदू शादियां बहुत बड़ी, महंगी और सुरुचिपूर्ण होती थीं |

उनके पिता इसके बाद बीमार हो गए और उनका निधन हो गया जब गांधीजी केवल 16 वर्ष के थे। इसके बाद उन्होंने हाई स्कूल से स्नातक किया और एक छोटे भारतीय कॉलेज में दाखिला लिया । एक पारिवारिक मित्र ने तब गांधीजी को इंग्लैंड से कानून की डिग्री हासिल करने के बाद अपने पिता के पद के उत्तराधिकारी के रूप में खुद को सुसज्जित करने की सलाह दी। 


चंपारण सत्याग्रह

चंपारण सत्याग्रह महात्मा गांधी का सबसे बड़ा और सबसे सफल सत्याग्रह में से एक है यह सत्याग्रह महात्मा गांधी एवं भारत की तस्वीर बदल कर रख दी,क्योंकि इस सत्याग्रह के बाद देश में कई ऐसे बदलाव आए जिसके कारण भारत की आजादी का मार्ग प्रशस्त हो पाया |

चंपारण सत्याग्रह, चंपारण के किसानों को लेकर किया गया था चंपारण बिहार का एक महत्वपूर्ण जिला है जहां पर सबसे पहले अंग्रेजों से अहिंसा के बल पर लड़ने की शुरुआत महात्मा गांधी जी के द्वारा किया गया था |

यह लड़ाई महात्मा गांधी ने चंपारण के किसानों के लिए लड़े थे चंपारण के किसानों को अंग्रेज समय-समय पर प्रताड़ित करते थे उन्हें नील की खेती करने के लिए विवश किया करते थे एवं उनसे कई गुना ज्यादा टैक्स वसूला करते थे |

उस जमाने में टैक्स का मतलब उनके द्वारा उग जाए गए अनाज का एक बहुत बड़ा हिस्सा होता था और जब किसान इस टैक्स को दे देते थे तो उसके हाथों में बहुत कम अनाज बच पाता था जिनसे उनके परिवार का गुजारा भी चलना मुश्किल था ।

गांधीजी चंपारण आने के बाद वहां के किसानों की बातों को सुना और उसे एक कागज पर दस्तावेज के रूप में उतारा और साथ ही वह चंपारण में रुक गए और वहां की समस्याओं को सुलझाने में लग गए चंपारण की सबसे बड़ी समस्या यह थी कि वहां पर नील की खेती होती थी और इस नील की खेती में अंग्रेज किसानों की जमीनों पर कब्जा करते थे और उन्हें अनाज उप जाने नहीं दिया जाता था उन्हें नील की खेती करने के लिए विवश किया जाता था ।

अंग्रेज चंपारण में नील की खेती करवाते थे और उस नील को इंग्लैंड भेजते थे ताकि वहां पर जो भी अंग्रेज अफसर हैं वह अपने कपड़ों को साफ कर पाए।

चंपारण सत्याग्रह ने नील की खेती पर कमान काशी और वहां के जो भी किसान थे उनके अधिकार उन्हें वापस दिए गए और उन्हें फिर दोबारा कभी नील की खेती करने के लिए विवश नहीं किया गया यह पहली लड़ाई थी अंग्रेजों से जो महात्मा गांधी जी अपने अहिंसा के बल पर जीत लिया था ।

खेड़ा सत्याग्रह

इसके बाद महात्मा गांधी जी की जिंदगी का दूसरा सबसे बड़ा सत्याग्रह खेड़ा सत्याग्रह था, जिसमें उन्होंने अपनी सूझबूझ और सरदार बल्लभ भाई पटेल के एकता और  दृढ़ निश्चय के कारण अपनी जीत अंग्रेजो के खिलाफ दर्ज की | यह सत्याग्रह गुजरात के खेड़ा जिले में हुआ था जो सरदार वल्लभभाई पटेल, गांधी जी एवं अन्य नेताओं के द्वारा किया गया था |

स्वराज्य

असहयोग की अवधारणा बहुत लोकप्रिय हो गई और भारत की लंबाई और चौड़ाई के माध्यम से फैलने लगी। गांधी ने इस आंदोलन को आगे बढ़ाया और स्वराज पर ध्यान केंद्रित किया।

साइमन कमीशन और नमक सत्याग्रह (दांडी मार्च)

साइमन कमीशन एक ऐसी कमीशन थी जिसकी नियुक्ति सर जॉन साइमन ने किया था जो ब्रिटिश प्रधानमंत्री थे उस वक्त साइमन कमीशन जब भारत आया तो यहां के भारतीय नेताओं ने देखा कि इस कमीशन में जितने भी लोग हैं सभी अंग्रेज ही थे इसमें एक भी भारतीय थे, जिसके कारण इसका विरोध गांधी जी एवं अन्य नेताओं ने मिलकर किया और साइमन गो बैक का नारा भी लगाया गया |

गोलमेज सम्मेलनों पर बातचीत

गांधी-इरविन संधि के बाद, गांधी को अंग्रेजों द्वारा गोल मेज सम्मेलनों में आमंत्रित किया गया था। जबकि गांधी ने भारतीय स्वतंत्रता के लिए दबाव डाला |

भारत की स्वतंत्रता और विभाजन

ब्रिटिश कैबिनेट मिशन द्वारा 1946 में पेश किए गए स्वतंत्रता सह विभाजन प्रस्ताव को महात्मा गांधी द्वारा अन्यथा सलाह दिए जाने के बावजूद कांग्रेस द्वारा स्वीकार किया गया था। सरदार पटेल ने गांधी को आश्वस्त किया कि गृह युद्ध से बचने का एकमात्र तरीका है और उन्होंने अनिच्छा से अपनी सहमति दी। भारत की स्वतंत्रता के बाद, गांधी ने हिंदुओं और मुसलमानों की शांति और एकता पर ध्यान केंद्रित किया।

मोहनदास करमचंद गांधी को “महान आत्मा” के महात्मा के रूप में जानते हैं। वह राजनीतिक नेता थे और जो ब्रिटिश शासकों से भारतीय स्वतंत्रता दिवस के लिए लड़ते थे। भारतीय गरीब लोगों का अधिकार।

वह दुनिया भर में शांति और अहिंसा के लिए थे, क्योंकि वह वास्तव में यह मानते थे कि केवल ये गुण मानव जाति को बचा सकते हैं। 30 जनवरी, 1948 को गांधीजी ने अपने रिवाज के अनुसार प्रार्थना सभा का आयोजन किया। पैंतीस वर्षीय अखबार के संपादक, नाथूराम गोडसे, जो कट्टर समूह के सदस्य थे, दर्शकों की अग्रिम पंक्ति में बैठे थे। जैसे ही गांधीजी मंच पर बैठने के लिए भीड़ से गुजरे, गोडसे ने उनकी छोटी पिस्तौल को हटा दिया और लगभग 5:10 बजे उन्हें तीन बार गोली मार दी। महात्मा गांधीजी की  सांसें उखड़ गई और अपनी अंतिम सांसें लेते हुए जमीन पर गिर गए और कहा हे राम |
Share your love
Default image
A R U N

अरुण कुमार hindise.in का कुशल और अनुभवी लेखक है। वह make money online, Tips & Tricks और biography जैसे विषयों पर लेख साझा करता है। उसने HindiSe समेत कई अन्य नामचीन हिंदी ब्लोगों के साथ काम किया है।

Leave a Reply